About Us


Over the last 30 years or more, the civil rights movement in India has emerged as an autonomous voice in defense of civil liberties and democratic rights of our people. The Peoples Union for Democratic Rights, Delhi, is one such organisation. It came into existence in 1977 as the Delhi unit of a larger national forum,PUCLDR, and became PUDR on 1 February, 1981.


Press Releases


Aug 28 12:09

प्रेस विज्ञप्ति: जॉइंट रिपोर्ट: धागों में उलझी जिंदगियों - उद्योग विहार, गुड़गांव, कपड़ा उद्योग

उद्योग विहार की कपड़ा फक्ट्रियों में हादसों की सूची बढ़ती जा रही है | 20 जून 2015 को ओरियेंट क्राफ्ट नामक फैक्ट्री के 'फिनिशिंग' विभाग में काम करने वाले एक मज़दूर पवन कुमार को लिफ्ट का प्रयोग करते समय बिजली के झटके लगे थे और वह घायल हो गया था | खबर सुनते ही कई मज़दूर फैक्ट्री के गेट पर इकट्ठा हो गए थे | इससे पहले 12 फरवरी 2015 को उद्योग विहार, गुड़गांव में कपड़ा फैक्ट्रियों के सैंकड़ों मज़दूर सड़कों पर आ उतरे और कुछ फैक्ट्रियों की बिल्डिंगों पर पत्थर फैंके | उन्होंने अफ़वाह सुनी थी की उनके एक साथी मज़द


Jul 29 05:30

Stop arrests and harassment of activists protesting against Kanhar Dam Project

 PUDR condemns the ongoing attacks by the state police and land mafia against the protesters who have been agitating against the construction of the Kanhar Dam project in Sonbhadra district for the past seven months. The arrest of Roma Malik, Sukalo (30th June), Gambheera Prasad (21st April), Pankaj, Laxman and Ashrafi Yadav (14th April) of the All India Union of Forest Working People (AIUFWP) is the latest demonstration of such terror tactics.


Jul 28 11:53

WHY YAKUB MEMON SHOULD NOT BE HANGED

After the Supreme Court rejected Yakub Memon’s curative petition on 21st July 2015, Memon has filed a mercy petition before the Governor and also a validity plea before the apex court. Many believe that he is cleverly using the system to buy time. Against those who are baying for his blood, it is important to remember that there are, arguably, very good reasons why he should not be hanged:


Latest Publications


Aug 28 11:59

धागों में उलझी ज़िंदगियाँ: उधोग विहार, गुड़गाँव के कपडा उद्योग के मज़दूरों के बीच हादसों और असंतोष की दास्तान

Presentation1.jpg

उद्योग विहार की कपड़ा फक्ट्रियों में हादसों की सूची बढ़ती जा रही है | 20 जून 2015 को ओरियेंट क्राफ्ट नामक फैक्ट्री के 'फिनिशिंग' विभाग में काम करने वाले एक मज़दूर पवन कुमार को लिफ्ट का प्रयोग करते समय बिजली के झटके लगे थे और वह घायल हो गया था | खबर सुनते ही कई मज़दूर फैक्ट्री के गेट पर इकट्ठा हो गए थे | इससे पहले 12 फरवरी 2015 को उद्योग विहार, गुड़गांव में कपड़ा फैक्ट्रियों के सैंकड़ों मज़दूर सड़कों पर आ उतरे और कुछ फैक्ट्रियों की बिल्डिंगों पर पत्थर फैंके | उन्होंने अफ़वाह सुनी थी की उनके एक साथी मज़दूर समी चंद की मौत हो गई है | बाद में पता


Jul 23 18:00

गौमांस पर प्रतिबंध और मौलिक अधिकारों का हनन - कुछ आयाम

gomans.jpg

 भारतीय जनता पार्टी सरकार ने अपने 2014 के चुनाव पत्र में गौमांस पर प्रतिबंध और गौसंरक्षण को एक बड़ा मुद्दा बनाया था। इसी को अमल में लाते हुए, »


Jul 08 05:30

BANNED AND DAMNED: SIMI's Saga with UAPA Tribunals

uspa-cvr.jpg

 PEOPLES UNION FOR DEMOCRATIC RIGHTS has long held that freedoms conferred by the Constitution as well as those which flow from International Covenant on Civil and Political Rights (ICCPR), are intrinsic to our pursuit of democratic rights. These ‘freedoms’ are not only meant for individuals but also, and most significantly, for our right to form associations in order to promote and propagate collectively held perspectives/views in the public domain.