ऋषिपाल की मौत - दलित-विरोधी हरियाणा में दोस्ती की कीमत

यह रिपोर्ट पीयूडीआर, दिल्ली और पीयूसीआर, हरियाणा द्वारा एक 22 वर्षीय दलित लड़के ऋषिपाल की आत्महत्या पर की गई फैक्ट-फाइंडिंग के बारे में है | ऋषिपाल को एक वयस्क लड़की के अपहरण में सह-आरोपी बताया गया था | अन्य पिछड़ी जाति की इस लड़की एकता ने वास्तव में अपने परिवार के खिलाफ जाकर, अपनी मर्ज़ी से किसी दलित लड़के के साथ शादी कर ली थी | यह रिपोर्ट पुलिस और प्रशासन की भूमिका और साथ ही हिरासत में हिंसा और हरियाणा में जाति संबंधों पर भी प्रकाश डालती है |
 
संकेत-शब्द - हिरासत में हिंसा, जाति अत्याचार, प्रेम विवाह, दलित, परिवार, जाति, हरियाणा, पितृसत्ता, हिरासत में यातना, पुलिस हिरासत, आत्महत्या, इज्ज़त, एससी-एसटी अधिनियम, अपहरण, भारतीय दण्ड संहिता की धारा 363, भारतीय दण्ड संहिता की धारा 366, एफआईआर, जांच    
Download this article here: