Worker

मारुती मजदूरों के दोषारोपण और सजा के विरोध में !

गुड़गाँव सत्र अदालत द्वारा स्टेट ऑफ़ हरियाणा बनाम जियालाल एवं अन्य के मुकद्दमे में 10 मार्च 2017 को दोषी ठहराये गए 31 आरोपियों को आज सजा सुनाई गई । इनमें से 13 यूनियन लीडरों को आजीवन कारावास, 4 को पांच साल कैद, और बाकियों को जेल में बिता चुके समय की सज़ा दी गई | पीपल्स यूनियन फॉर डैमोक्रेटिक राइट्स न केवल इस कठोर सजा की बल्कि 31 मजदूरों को दोषी ठहराने की भी कड़ी निंदा करता है । यह मुकद्दमा 18 जुलाई 2012 को मारूति के मानेसर प्लांट में हुई हिंसा एवं दफ्तर में आगजनी और इस दौरान दुर्भाग्यवश दम घुटने से एचआर मैनेजर की हुई मृत्यु के संदर्भ में दायर किया गया था |

Condemn Conviction and Sentencing of Maruti Workers!

The Sessions Court in Gurgaon today announced the quantum of sentence for 31 workers convicted by it on 10th March in the State of Haryana Vs. Jiyalal and Others case. Thirteen union leaders have been awarded life imprisonment, four others five years imprisonment and remaining 14 sentence as already undergone. Peoples Union for Democratic Rights strongly condemns not just the severity of punishment, but the conviction itself.

ज़िंदंगी मुहाल है! ग्रेटर नोऐडा स्थित एल.जी. इलेक्ट्रॉनिक्स कंपनी में काम के हालात और यूनियन बनाने की कोशिश

प्रेस विज्ञप्ति - 16.11.16

हौंडा मोटरसाइकिल के हड़ताली मजदूरों के साथ खड़े हों और अपना समर्थन दें ! यूनियन बनाने के अधिकार के लिए आवाज़ उठाएं!

हौंडा मोटरसाइकिल मजदूरों के यूनियन बनाने के अधिकार के समर्थन में बांटे गए इस पर्चे को पढने के लिए कृपया नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करके पर्चा डाउनलोड करें |

Stand up and defend the striking workers of Honda two-wheelers! Stand up for the right to unionise!

Stand up and defend the striking workers of Honda two-wheelers!

Stand up for the right to unionise!

 

  • 2500 contract workers and 200 permanent workers of Honda Company at Tapukhera (Rajasthan-Haryana border) stand dismissed by the management since February, 2016. Why?

Because they tried to unionize.

Subscribe to RSS - Worker